एमएसई संक्षिप्त परिचय

नेशनल एल्यूमिनियम कंपनी लिमिटेड (नालको) खान मंत्रालय के अधीन एक नवरत्‍न केन्द्रीय लोक उद्यम है। यह कम्पनी भुवनेश्‍वर में पंजीकृत कार्यालय के साथ 7 जनवरी, 1981 को सार्वजनिक क्षेत्र में स्थापित हुई थी। यह कंपनी वित्त वर्ष 2016-17 में ₹7933 करोड़ के बिक्री कारोबार के साथ खनन, धातु और विद्युत में एक एकीकृत और विविधीकृत प्रचालनों वाला समूह-‘क’का केन्द्रीय लोक उद्यम है। वर्तमान, भारत सरकार नालको के 56.59% शेयर धारण किए है।

नालको देश में एक वृहत्तम एकीकृत बॉक्साइट-एल्यूमिना-एल्यूमिनियम-विद्युत संकुल है। इस कंपनी के ओड़िशा के कोरापुट जिले के दामनजोड़ी में अवस्थित 68.25 लाख टन प्रतिवर्ष की बॉक्साइट खान और 21.00 लाख टन प्रतिवर्ष(नियामक क्षमता) का एल्यूमिना परिशोधक है और ओड़िशा के अनुगुळ में 4.60 लाख टन प्रतिवर्ष का एल्यूमिनियम प्रद्रावक एवं 1200 मेगावाट क्षमता का ग्रहीत विद्युत संयंत्र है। नालको की एल्यूमिना/एल्यूमिनियम के निर्यात और कॉस्टिक सोड़ा के आयात के लिए विशाखापत्तनम् बन्दरगाह में थोक जहाजी-लदान की सुविधाएँ हैं तथा कोलकाता और पारादीप बन्दरगाहों की सुविधाओं का भी उपयोग किया जाता है। देशीय बाजार में विपणन को सुसाध्य बनाने के लिए दिल्ली, कोलकाता, मुम्बई, चेन्नै और बॆंगळूरु में कंपनी के पंजीकृत बिक्री कार्यालय हैं और देश में विभिन्न स्थानों पर इसके ग्यारह स्टॉकयार्ड हैं।

वुड मैक्केंजी की रिपोर्ट के अनुसार यह कंपनी विश्व में धातुकर्मीय ग्रेड एल्यूमिना का कम लागत वाला उत्पादक है। निरन्तर गुणवत्तापूर्ण उत्पादों के साथ, वर्ष 2016-17 में इस कंपनी के कुल बिक्री-कारोबार की लगभग 46% की निर्यात आय हुई और सार्वजनिक उद्यम सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार 2015-16 में इस कम्पनी को द्वितीय उच्चतम शुद्ध निर्यात आय करनेवाला केंद्रीय लोक उद्यम का दर्जा मिला था।