अपडेट
नालको “स्माइल” पुरस्कार 2020 के लिए आमंत्रित आवेदन 19/12/2019     | नालको “खारवेल” पुरस्कार 2020 के लिए आमंत्रित आवेदन 19/12/2019     | नालको “कालिदास” पुरस्कार 2020 के लिए आमंत्रित आवेदन 19/12/2019     | शुद्धिपत्र ” नाल्को के साथ प्रौद्योगिकी का अनुसंधान एवं विकास सहयोग / व्यावसायीकरण” 22/10/2019     | नाल्को के साथ प्रौद्योगिकी का अनुसंधान एवं विकास सहयोग / व्यावसायीकरण 30/09/2019     | नाल्को में नवीकरणीय ऊर्जा पर कौशल विकास प्रशिक्षण के लिए रुचि की अभिव्यक्ति 21/09/2019     | आज माननीय खान मंत्री श्री प्रल्हाद जोशी की उपस्थिति में संयुक्त उद्यम खनिज बिदेश इंडिया लिमिटेड (KABIL) का समझौता खान मंत्रालय के अंतर्गत नालको, एचसीएल और एमईसीएल द्वारा किया गया | 01/08/2019     | नालको के लिए वर्ष का नवरत्न पुरस्कार 14/06/2019     | 2019-20 के लिए लागत और कार्य लेखा परीक्षक की नियुक्ति 31/05/2019     | 31.03.2019 को समाप्त वर्ष के लिए अंकेक्षित वित्तीय परिणाम 30/05/2019     | Recruitment Advertisement of PESB for the post of Director (HR) 02/05/2019     | 2019-20 के लिए PRMBS योगदान का संशोधन 02/04/2019     | अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के उद्यमियों से विक्रेता पंजीकरण के लिए बुलावा 24/01/2019     | कें.सा.क्षे.उ. इंटरनेट के लिए समन्वय ज्ञान प्रबंधन पोर्टल के बारे में जानकारी 10/08/2018     | सार्वजनिक सूचना 26/01/2018     | ज्ञानालोक – अपना रचनात्मक कौशल प्रदर्शित करें और पुरस्कार पाएँ 25/07/2018     |

निदेशक मण्डल

CMD Profile Picture

श्री श्रीधर पात्र

अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक

श्री श्रीधर पात्र 17 दिसंबर 2019 से कंपनी के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक नियुक्त हुए हैं।

श्री श्रीधर पात्र, निदेशक (वित्त) के ओहदे पर कंपनी से दिनांक – 01.09.2018 को जुड़े। श्री पात्र को दिनांक – 01.12.2019 से ही कंपनी के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक का अतिरिक्त कार्यभार प्राप्त था। नालको में अपनी सेवा आरंभ करने से पूर्व, आपने टीएचडीसी में निदेशक (वित्त) के तौर पर पाँच वर्षों से भी अधिक सेवा प्रदान की है। 12.10.1964 को जन्मे, श्री पात्र भारतीय सनदी लेखाकार संस्थान के सदस्य एवं उत्कल विश्वविद्यालय के रैंक होल्डर ग्रेजूएट हैं। श्री पात्र एक बेहतरीन वित्त व लेखा वृत्तिक हैं, जिन्होंने परिणाम-गामी एवं समूह-विषयक नेतृत्व के साथ संस्था…

plusimg

सरकारी मनोनीत निदेशक

डॉ. के. राजेश्वर राव
सरकारी मनोनीत निदेशक

डॉ. के . राजेश्वर राव 19.02.2018 को निदेशक मंडल में अपर निदेशक के रूप में शामिल किये गए थे।

1 जुलाई, 1962 को जन्, डॉ. के . राजेश्वर राव के पास यूनिवर्सिटी ऑफ जामिया मिलिया इस्लामिया, दिल्ली से समाज विज्ञान में डॉक्टर ऑफ फिलोसॉफी (पीएच.डी.) डिग्री है। उनका संबंध त्रिपुरा संवर्ग से भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के 1988 बैच से है। वे वर्तमान में, खान मंत्रालय, भारत सरकार, नई दिल्ली में अपर सचिव के रूप में कार्य कर रहे हैं। डॉ. के . राजेश्वर राव के पास केन्द्रीय मंत्रालयो, राज्य सरकारो एवं सार्वजिनक क्षेत्र की कंपनियो में कार्य करने का पर्याप्त अनुभव है।

श्री अनिल कुमार नायक
सरकारी मनोनीत निदेशक

श्री अनिल कुमार नायक 27.03.2018 को अपर निदेशक के रूप में निदेशक मंडल में शामिल किया गया।

16.05.1962 को जन्मे, श्री अनिल कुमार नायक ने स्कूल ऑफ इंटरनैशनल स्टडीज, जेएनयू, नई दिल्ली से राजनीित में एम.ए. एवं दिल्ली विश्वविद्यालय के आइवरी कोस्ट में जातीयता एवं राजनीति विकास में एम.फिल पूरा किया है। वे 15 फरवरी, 1987 को भारतीय आयुध कारखाना सेवाएँ (आईओएफएस-1986 बैच) से जुड़े। अगस्त 2015 में श्रम मंत्रालय में मुख्य श्रम आयुक्त के रूप में जुड़ने के पूर्व 41 आयुध कारखानो से संलग्न संपूर्ण सं गठन के औद्योिगक सं बंधो का खयाल रखने के प्रयोजन से उप महानिदेशक, आयुध कारखाना बोर्ड, कोलकाता के पद पर तैनात थे। उनके पास अन्य सरकारी विभागो अंर्थात् 5वें वेतन आयोग में अवर सचिव, रक्षा मंत्रालय में उप सचिव, बिहार और ओड़िशा के क्षेत्रीय भविष्य निधि आयुक्त ग्रे.1, खान मंत्रालय में निदेशक के रूप में कार्य करने का व्यापक अनुभव है। मार्च 2018 में उन्हें संयुक्त सचिव, खान मंत्रालय के रूप में नियुक्त किया गया। वे अपने साथ तकनीकी एवं प्रशासनिक क्षेत्रों में क्षेत्रों व्यापक अनुभव लेकर आए हैं।

कार्यात्मक निदेशक

श्री व्ही. बालसुब्रमण्यम
निदेशक (उत्पादन)

श्री व्ही. बालसुब्रमण्यम् 01.01.2015 से निदेशक (उत्पादन) के रूप में कंपनी से जुड़े।

01.12.1960 को जन्मे, श्री व्ही. बालसुब्रमण्यम् ने रसायन इंजीनियरिंग में बी.टेक पूरा करने के बाद नालको में स्नातक अभियंता प्रशिक्षु (जीईटी) के रूप में 1984 में योग किया था। नालको के साथ जुड़ी अपने तीन दशको की दीर्घ सेवा के दौरान, श्री बालसुब्रमण्यम् ने एल्यूमिनियम प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी अभिग्रहण से लेकर समावेशन तक महत्वपूर्ण योगदान किया। अपने व्यापक विृत्तक अनुभव के साथ, जिसमें नालको के दोनो उत्पादन सं कुलो में परियोजना कार्यान्वयन से सं यंत्र परिचालन शामिल है, श्री बालसुब्रमण्यम् ने निदेशक (उत्पादन) के पद पर जुड़ने से पूर्व संगठन में अत्यन्त नाजुक एवं महत्वपूर्ण पदभार सं भाले।

श्री बालसुब्रमण्यम् इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेटल्स (आई आई एम) के आजीवन सदस्य, फेडरेशन इंडियन मिनरल इंडस्ट्रीज (एफआईएमआई) की प्रबंधन समिति के सदस्य एवं भारतीय उद्योग महासंघ (सीआईआई) की ओड़िशा शाखा के ऊर्जा पैनल के सदस्य भी हैं।

श्री संजीव कुमार रॉय
निदेशक (परियोजना एवं तकनीकी)

श्री संजीव कुमार रॉय 03.02.2017 से कंपनी के निदेशक (परियोजना एवं तकनीकी) हैं।

श्री रॉय रामकृष्ण मिशन विद्यामंदिर, बेलुड़ मठ से बी.एससी (रसायन में ऑनर्स) और फिर कोलकाता विश्वविद्यालय से रसायन इंजीनियरिंग विषय में बी.टेक और एम.टेक पूरा किया। वर्ष 1984 में उन्होंने नालको में स्नातक अभियंता प्रशिक् के रूप में अपनी आजीविका की शुरुआत की। वे कंपनी के एल्यूमिना परिशोधन संकुल, दामनजोड़ी में इस परियोजना के आरम्भ से ही तैनात थे, जहाँ उन्होंने महाप्रबंधक (परिशोधक) बनने के पूर्व दो चरणो के विस्तार कार्यक्रम सहित अनेक प्रमुख पदभार संभाले। तत्पश्चात् मई 2012 में कार्यपालक निदेशक (प्रद्रावक एवं विद्युत) के पद पर पदोन्नत होने के पूर्व वे अनुगुल में कंपनी के प्रद्रावक संयंत्र में महाप्रबंधक (प्रद्रावक) के पद पर तैनात थे। श्री रॉय अप्रैल, 2015 में कार्यपालक निदेशक (उत्पादन) के पद पर मुख्यालय भुवनेश्वर में तैनात हुए।

श्री रॉय अपने साथ सं कल्पना से लेकर चालू करने तक परियोजनाओ के प्रबंधन के साथ-साथ कंपनी संयंत्र एवं प्रचलनो का व्यापक अनुभव लेकर आए हैं।

श्री प्रदीप कुमार मिश्र
निदेशक (वाणिज्य)

श्री प्रदीप कुमार मिश्र 23.04.2018 को निदेशक (वाणिज्यिक) के रूप में कंपनी से जुड़े।

12.02.1961 को जन्मे, श्री प्रदीप कुमार मिश्र उत्कल विश्वविद्यालय से अंग्रेजी साहित्य में स्नातकोत्तर हैं। भारतीय इस्पात प्राधिकरण में वर्ष 1983 में उन्होंने प्रबंधन प्रशिक्षु रूप में विृत्तक आजीविका के रूप में अपने कैरियर की शुरुआत की। वे विपणन प्रबंधन के क्षेत्र में अपने साथ गहन एवं विविध अनुभव लेकर आए हैं। भारतीय इस्पात प्राधिकरण में 35 वर्षों अपने सेवाकाल के दौरान वे भारतीय इस्पात प्राधिकरण के तीन क्षेत्रों में क्षेत्रों क्षेत्रीय प्रबंधक बनने सहित विभिन्न पदो पर तैनात थे। उन्होंने कार्यपालक निदेशक के रूप में 3 वर्षों के लिए, भारतीय इस्पात प्राधिकरण के समतल उत्पादो के घरेलू विपणन की अगुआई की। श्री िमश्र को भारतीय इस्पात प्राधिकरण में विपणन क्षेत्र में उनके असाधारण अंशदान के लिए गौरवािन्वत जवाहर पुरस्कार प्राप्त हुआ है।

dirhr@nalcoindia.co.in

(0674) 2300430

Functional Directors
श्री राधाश्याम महापात्रो
निदेशक (मानव संसाधन)

श्री राधाश्याम महापात्रो 01.01.2020 से निदेशक (मानव संसाधन) के रूप में कंपनी से जुड़े।

श्री महापात्रो को विभिन्न क्षमताओं में विद्युत, तेल और कोयला क्षेत्रों में गहन अनुभव है तथा उन्होंने सफलतापूर्वक विविध और उच्चतर जिम्मेदारियों का वहन किया है। वह खलीकोट कॉलेज, ब्रह्मपुर, ओडिशा से भौतिकी स्नातक हैं तथा उन्होंने बेरहामपुर विश्वविद्यालय से इंडस्ट्रियल रिलेशन एंड लेबर वेलफेयर में स्नातकोत्तर की है। श्री महापात्रो ने कई क्षेत्रों के मानव संसाधन कार्यों को संभाला है। एनएचपीसी, इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड और सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड (सीसीएल) में अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने सामूहिक कार्य करने के माध्यम से उत्पादक कार्य संस्कृति की शुरुआत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

श्री महापात्रो की रुचि के क्षेत्रों में उत्पादकता में सुधार, मानव विकास, कौशल विकास के माध्यम से रोजगार का सृजन, खेल, संस्कृति और मानव गरिमा में सुधार शामिल हैं। उन्होंने समुदायों की आवश्यकता और आकांक्षाओं के प्रति संवेदनशील बनाने के लिए प्रशासन में सुधार हेतु लगन से काम किया है। उनकी विशिष्टता में पारदर्शिता, नेतृत्व और सामूहिक कार्य शामिल है।

स्वतन्त्र निदेशक

श्रीमती किरण घई सिन्हा
स्वतन्त्र निदेशक

सुश्री किरण घई सिन्हा दिनांक 03.02.2017 से निदेशक-मंडल में अंशकालिक गैर-सरकारी (स्वतन्त्र) निदेशक नियुक्त हुईं।

ये लगातार तीन कार्यकालो के लिए पटना विश्वविद्यालय की सीनेट की सदस्य हैं। ये स्काउट्स एवं गाइड्स फे लोशिप, बिहार की अध्यक्ष भी हैं। ये नागरिक उड्डयन मंत्रालय, भारत सरकार की हिन्दी सलाहकार समिति की सदस्य (गैर सरकारी) हैं।

सुश्री सिन्हा ने पटना विश्वविद्यालय से हिदी में एम.ए.किया। ये एक एसोसिएट प्रोफे सर, हिन्दी विभाग, पटना महिला महाविद्यालय, पटना विश्वविद्यालय के पद से सेवानिवृत्त हुईं। सुश्री सिन्हा 2004-10 और फिर 2010-16 के दो लगातार कार्यकालो के लिए बिहार विधान परिषद (बीएलसी) की सदस्य भी रही। एम.एल.सी. के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान इन्हें गृह की तीन समितियो की अध्यक्षता का सुअवसर मिला, यथा- शहरी विकास समिति, राजभाषा समिति एवं बाल परिरक्षण व महिला सशक्तीकरण समिति। ये स्थानीय मं डल (पूर्वांचल), रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया (2001-2004) की सदस्य और दो कार्यकालो के लिए प्रबंध निदेशक मं डल, राजेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय, पूसा, बिहार की भी सदस्य रही। ये 48वें और 50वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार में गैर-फीचर फिल्म संवर्ग में और फीचर फिल्म सं वर्ग में निर्णायक-मंडल की सदस्य भी रही। संयुक्त राष्ट्र, य॰एस॰ए॰ (2007) में आयोजित विश्व हिन्दी सम्लन के राज्य प्रतिनिधि-मंडल में ये एक सदस्य थी।

श्री नागेन्द्र नाथ शर्मा
स्वतन्त्र निदेशक

श्री एन एन शर्मा दिनांक 06.09.2017 से निदेशक मंडल में अंशकालिक गैर-सरकारी (स्वतन्त्र) निदेशक नियुक्त हुए थे।

12 अगस्त 1950 को जन्मे, श्री एन एन शर्मा ने मैके निकल इंजीनियरिंग में बी.एससी की है। वर्तमान में, वे बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट टेक्नोलॉजी (बीआईएमटीईसीएच), ग्रेटर नोएडा में सेन्टर फॉर कॉर्पोररेट सोशल रेस्पान्सिबिलिटी एण्ड सस्टेनिबिलिटी के अध्यक्ष हैं। वे एसीसी लि. के समाज लेखा परीक्षा समिति के सदस्य भी हैं। श्री शर्मा ने एनटीपीसी, एनएचपीसी, भारतीय इस्पात प्राधिकरण एवं एनपीसीआईएल जैसे निगमों के नि.सा.उ. विृत्तको के क्षमता विकास कार्यक्रम का संचालन किया है। समाज विकास के क्षेत्र में इनके पास कार्य करने का तीन दशको से अधिक का अनुभव है। आई.एफ. सी.आई. द्वारा स्थापित राजस्थान कन्सल्टेन्सी ऑर्गेनाइजेशन (आर.ए.जे.सी.ओ.एन.) एवं अन्य विकास सं गठनो के प्रबंधक निदेशक थे और उ.प्र.अल्पसंख्यक वित्तीय एवं विकास निगम के प्रथम महाप्रबंधक भी थे।

उन्होंने यूएनडीपी एवं यूएनआईडीओ के साथ भी कार्य किया है और विश्व बैंक तथा डीएफआईडी, यके द्वारा समर्थित परियोजनाओ से भी जुड़े हुए थे।

श्रीमती अचला सिन्हा
स्वतन्त्र निदेशक

श्रीमती अचला सिन्हा दिनांक 08.09.2017 को निदेशक मंडल में अंशकालिक गैर-सरकारी (स्वतन्त्र) निदेशक नियुक्त की गई थी।

श्रीमती अचला सिन्हा ने पटना िवश्वविद्यालय से अंग्रेजी साहित्य में एम.ए., पंजाब विश्वविद्यालय से लोक प्रशासन में एम.फिल., भारतीय लोक प्रशासन सं स्था (आईआईपीए), नई दिल्ली से एडवान्स प्रोफेशनल प्रोग्राम इन पब्लिक एडमिनिस्शन (एपीपीए) की है।

वे 1982 बैच के भारतीय रेल की यातायात सेवा अधिकारी (आईआरटीएस) हैं। वर्ष 1984 में उन्होंने प ्हों ूर्व रेलवे के दानापुर मं डल से सहायक वाणिज्य प्रबंधक के रूप में अपनी आजीविका की शुरुआत की थी एवं तीन दशको से भी अधिक समय से विभिन्न क्षमताओ में रेल मंत्रालय में निदेशक (पर्यटन), कार्यपालक निदेशक (साख्यिं की और आर्थिक) एवं उत्तर रेलवे के दिल्ली मं डल में मुख्य यातायात प्रबंधक के रूप में कार्यकिया है। अक्टूबर, 2016 में अपने सेवा निवर्त्तन के पूर्व अपर सचिव, केन्द्रीय सूचना आयोग के रूप में भी अपनी सेवा दी। उन्होंने वार्षिक रेल सप्ताह के दौरान अपने असाधारण कार्य-प्रदर्शन के लिए महाप्रबंधक पूर्व रेलवे पुरस्कार एवं आईआईपीए, नई दिल्ली की ओर से 30 वें एडवान्स प्रोफे शनल प्रोग्राम इन पब्लिक एडमिनिस्शन ट्रे (एपीपीए) में सर्वश्रेष्ठ महिला भागीदारी का पुरस्कार जीता है। भारतीय रेल और साथ ही नगर विकास मंत्रालय, भारत सरकार की कार्यप्रणालियो को बेहतर बनाने के लिए कई संकल्पनात्मक लेख भी लिखा है। इनमें से कई सं कल्पनाओ पर चर्चा की गई है एवं कार्यान्वित की गई है।