अपडेट
नाल्को के साथ प्रौद्योगिकी का अनुसंधान एवं विकास सहयोग / व्यावसायीकरण 30/09/2019     | नाल्को में नवीकरणीय ऊर्जा पर कौशल विकास प्रशिक्षण के लिए रुचि की अभिव्यक्ति 21/09/2019     | आज माननीय खान मंत्री श्री प्रल्हाद जोशी की उपस्थिति में संयुक्त उद्यम खनिज बिदेश इंडिया लिमिटेड (KABIL) का समझौता खान मंत्रालय के अंतर्गत नालको, एचसीएल और एमईसीएल द्वारा किया गया | 01/08/2019     | नालको के लिए वर्ष का नवरत्न पुरस्कार 14/06/2019     | 2019-20 के लिए लागत और कार्य लेखा परीक्षक की नियुक्ति 31/05/2019     | 31.03.2019 को समाप्त वर्ष के लिए अंकेक्षित वित्तीय परिणाम 30/05/2019     | Recruitment Advertisement of PESB for the post of Director (HR) 02/05/2019     | Recruitment Advertisement of PESB for the post of CMD, NALCO 02/05/2019     | 2019-20 के लिए PRMBS योगदान का संशोधन 02/04/2019     | अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के उद्यमियों से विक्रेता पंजीकरण के लिए बुलावा 24/01/2019     | कें.सा.क्षे.उ. इंटरनेट के लिए समन्वय ज्ञान प्रबंधन पोर्टल के बारे में जानकारी 10/08/2018     | सार्वजनिक सूचना 26/01/2018     | ज्ञानालोक – अपना रचनात्मक कौशल प्रदर्शित करें और पुरस्कार पाएँ 25/07/2018     |

निगम सामाजिक उत्तरदायित्व संक्षिप्त परिचय

“जब भी आप संदेह में हों … सबसे गरीब और सबसे हफ़्ते आदमी का चेहरा याद करें, जिसे आपने देखा होगा और खुद से पूछ सकते हैं कि क्या आपके द्वारा सोचे गए कदम का उसके लिए कोई फायदा नहीं होने वाला है? क्या वह इससे कुछ हासिल करेगा? क्या यह उसे अपने जीवन और भाग्य पर नियंत्रण करने के लिए बहाल करेगा? अकेला परीक्षण हमारी योजनाओं और कार्यक्रमों को सार्थक बना सकता है।”

– महात्मा गांधी

mahatma gandhi

हमारी दूरदृष्टि

  • इंजीनियर समग्र विकास का एजेंट बनना

हमारी ध्येय

  • सतत विकास के लिए भागीदारों के रूप में नाल्को परियोजनाओं के आसपास के क्षेत्रों में समुदायों के साथ काम करने के लिए।
  • आय सृजन कार्यक्रमों के साथ-साथ शिक्षा, स्वास्थ्य, पेयजल और बुनियादी सुविधाओं का समर्थन करने के लिए सतत विकास परियोजनाएं शुरू करना।
  • महिलाओं को राष्ट्र निर्माण में एक उचित स्थान खोजने के लिए सशक्त बनाना;
  • बच्चों को सशक्त बनाने के लिए, एक सम्मानजनक जीवन यापन के लिए अलग-अलग विकलांग व्यक्तियों (शारीरिक और मानसिक रूप से विकलांग सहित), बूढ़े और निराश्रित व्यक्तियों को।
  • नाल्को परियोजनाओं के आसपास के क्षेत्रों में आदिवासी कला और संस्कृति पर जोर देने के साथ कला, संस्कृति, विरासत और खेल को बढ़ावा देने के लिए।
  • पर्यावरण संरक्षण के उपायों को बढ़ावा देना।

सूक्ति

नालको में, “सर्वे भवन्तु सुखिनः” मार्गदर्शी चेतना है, जो कंपनी के निगम सामाजिक उत्तरदायित्व के लोगो में सन्निहित है। जबकि प्रसन्नता भरने का प्रयास करते वक्त, यह कंपनी महात्मा गान्धी के शब्दों को याद करती है: “जब भी आप दुविधा में हों… सबके गरीब और कमजोर मानव के चेहरे को याद करें, जिसे आपने देखा हो और अपने आप से पूछें कि जो कदम आप उठाने का चिन्तन कर रहे हैं, क्या वह उसके किसी उपयोग में आएगा? क्या उसे इसके द्वारा कुछ मिलेगा? क्या यह उसके अपने जीवन और भाग्य पर नियंत्रण हेतु उसे पुनर्स्थापित करेगा? केवल यही परीक्षण हमारी योजनाओं और कार्यक्रमों को अर्थपूर्ण बनाएगा।”

अपने व्यवसाय के साथ, नालको अपनी निगम सामाजिक उत्तरदायित्व (नि.सा.उ.) गतिविधियों पर विशेष बल देती है। यह कंपनी अपने संयंत्रों और सुविधाओं के आसपास रहनेवाले समुदायों के जीवन की गुणवत्ता को बेहतर प्रतिबिम्बित करने के लिए आगे आई है। इस कंपनी ने पर्याप्त क्षतिपूर्ति, मकानों और संभाव्य सीमा तक रोजगार के साथ विस्थापित परिवारों के पुनर्वास की समस्या का विशद रूप से समाधान किया है। इनके अलावा, यह कंपनी अपनी सभी गतिविधियों में प्रदूषण-मुक्त पर्यावरण के उन्नयन और अनुरक्षण को उच्च महत्व देती है।

निर्माणात्मक वर्ष

जब इस कंपनी ने 1981 में ओड़िशा में अपनी गतिविधियाँ आरम्भ की थी, तब नि.सा.उ. जैसी कोई नामावली नहीं थी। पर तब भी कंपनी ने समाज के प्रति अपने नैतिक दायित्व को समझ लिया था। किन्तु आज, निगम सामाजिक उत्तरदायित्व निगम विश्व में एक प्रचलित शब्द बन गया है। अधिकाधिक संगठन इस विलम्बित अनुभूति के प्रति जागृत हो रहे हैं कि उत्पादकता और लाभकारिता के पार, यह सामाजिक उत्तरदायित्व ही है, जो उनकी छवि का निर्धारण करता है। वर्तमान में, किसी परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण और इसकी आधारशिला रखे जाने के पूर्व ही, यह कंपनी इस क्षेत्र में अपनी निगम सामाजिक उत्तरदायित्व गतिविधियाँ आरम्भ कर देती है। यह परिकल्पित है कि एक ठोस नि.सा.उ. आधार पर, एक दृढ़ व्यवसाय साम्राज्य निर्मित किया जा सकता है।