अपडेट
आज माननीय खान मंत्री श्री प्रल्हाद जोशी की उपस्थिति में संयुक्त उद्यम खनिज बिदेश इंडिया लिमिटेड (KABIL) का समझौता खान मंत्रालय के अंतर्गत नालको, एचसीएल और एमईसीएल द्वारा किया गया | 01/08/2019     | नालको के लिए वर्ष का नवरत्न पुरस्कार 14/06/2019     | 2019-20 के लिए लागत और कार्य लेखा परीक्षक की नियुक्ति 31/05/2019     | 31.03.2019 को समाप्त वर्ष के लिए अंकेक्षित वित्तीय परिणाम 30/05/2019     | Recruitment Advertisement of PESB for the post of Director (HR) 02/05/2019     | Recruitment Advertisement of PESB for the post of CMD, NALCO 02/05/2019     | 2019-20 के लिए PRMBS योगदान का संशोधन 02/04/2019     | अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के उद्यमियों से विक्रेता पंजीकरण के लिए बुलावा 24/01/2019     | कें.सा.क्षे.उ. इंटरनेट के लिए समन्वय ज्ञान प्रबंधन पोर्टल के बारे में जानकारी 10/08/2018     | सार्वजनिक सूचना 26/01/2018     | ज्ञानालोक – अपना रचनात्मक कौशल प्रदर्शित करें और पुरस्कार पाएँ 25/07/2018     |

पवन विद्युत संयंत्र

दिसंबर, 2012 में गण्डीकोटा, आंध्र प्रदेश में 50.4 मेगावाट (2.1 मेगावाट, 24 संख्यक डब्ल्यू.ई.जी.) क्षमता का प्रथम पवन विद्युत संयंत्र चालू हुआ था तथा जनवरी, 2014 में जैसलमेर, राजस्थान में लुडर्वा परिस्थल पर 47.6 मेगावाट (0.85 मेगावाट, 56 संख्यक डब्ल्यू.ई.जी.) क्षमता का दूसरा पवन विद्युत संयंत्र चालू हुआ था। वित्त वर्ष 2016-17 में देवीकोट परिस्थल, जैसलमेर, राजस्थान में 50 मेगावाट (2 मेगावाट, 25 संख्यक डब्ल्यू.ई.जी.) क्षमता का तीसरा पवन विद्युत संयंत्र तथा सांगली, महाराष्ट्र में 50.4 मेगावाट (2.1 मेगावाट, 24 संख्यक डब्ल्यू.ई.जी.) क्षमता का एक पवन विद्युत संयंत्र चालू किया गया।